उत्तर-प्रदेशबड़ी खबरलखनऊ

25 जुलाई, 2024 को प्रदेश के सभी जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालयों पर धरने की चेतावनी

लखनऊ :राज्य सरकार द्वारा एक माह के अन्दर ग्रीष्मकालीन सम्मेलन एवं राज्य परिषद की बैठक में पारित प्रस्तावों पर यदि प्रभावी कार्यवाही नही जाती है तो  25 जुलाई, 2024 को प्रदेश के सभी जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालयों पर धरना होगा और जिला विद्यालय निरीक्षक के माध्यम से  मुख्यमंत्री को ज्ञापन पे्रषित किया जाएगा।

संघर्ष के दूसरे चरण में 09 अगस्त को प्रदेश के सभी जनपदों में मोटर साइकिल रैली निकालकर जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किये जाएगे। यह निर्णय गांधी भवन प्रेक्षाग्रह में आयोजित उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के ग्रीष्मकालीन सम्मेलन एवं राज्य परिषद की बैठक में लिया गया।

संगठन के प्रादेशिक उपाध्यक्ष एवं प्रवक्ता डा. आर.पी. मिश्र ने बताया कि सम्मेलन में 14 प्रस्ताव प्रारित हुए जिसमें पूर्व प्रेषित ज्ञापन की मांगों – पुरानी पेन्षन की बहाली, वित्त विहीन विद्यालयों के शिक्षकों को समान कार्य के लिए समान वेतन, शिक्षकों को निःशुल्क चिकित्सा सुविधा, 01 अप्रैल, 2005 के पूर्व विज्ञापित पदों पर चयनित शिक्षकों को केन्द्रीय कर्मचारियों की भाति पुरानी पेन्शन योजना का लाभ, अल्पसंख्यक विद्यालयों में शिक्षक पदों पर नियुक्ति आदि के साथ ही एन.पी.एस. के रख रखाव में व्याप्त भ्रष्टाचार एवं अनियमितताऐ, तदर्थ शिक्षको की बहाली, विद्यालय समय परिवर्तन में अनियमितता, आठवें वेतन आयोग का गठन, महिला शिक्षकों का उत्पीडन, षिक्षकों की स्थानान्तरण नीति का सरलीकरण, सी.बी.एस.ई. के समान बोर्ड पारिश्रमिक दरें, माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों का समायोजन आदि प्रस्ताव पारित किए गए जिन्हे शीघ्र ही राज्य सरकार को कार्यवाही के लिए भेजा जाएगा।


सम्मेलन का उद्घाटन मुख्य अतिथि के रूप में शिक्षा निदेषक (माध्यमिक) डा. महेन्द्र देव ने किया। अध्यक्षता उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष सुरेश कुमार त्रिपाठी ने की तथा संचालन महामंत्री नरेन्द्र कुमार वर्मा ने किया।


मुख्य अतिथि शिक्षा निदेशक,(माध्यमिक) डा. महेन्द्र देव ने कहा कि शिक्षक हमारा परिवार है उनकी समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर हल कराना हमारा दायित्व है। हम समस्याओं का विभाग स्तर एवं शासन स्तर से निस्तारण कराएगें।


अध्यक्ष सुरेश कुमार त्रिपाठी ने कहा कि यदि समस्याओं का एक माह के भीतर निराकरण नही होता है तो चरणबद्ध संघर्ष किया जाएगा. सम्मेलन में विशिष्ठ अतिथियों के रूप में उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष डा. दिनेश चन्द्र शर्मा एवं पवन सिंह चौहान, एम.एल.सी. के अलावा शिक्षक विधायक ध्रुव कुमार त्रिपाठी एम.एल.सी. एवं नेता षिक्षक दल,ने सम्बोधित किया सम्मेलन में प्रमुख रूप से पूर्व एम.एल.सी जगवीर किशोर जैन, हेमसिह पुण्डीर, डा. प्रमोद मिश्र, महामंत्री नरेन्द्र कुमार वर्मा, पूर्व महामंत्री इन्द्रासन सिंह, प्रादेशिक उपाध्यक्ष डा. आर.पी. मिश्र, महेश चन्द्र शर्मा, रामेश्वर उपाध्यय, कोषाध्यक्ष मुकेश शर्मा, आय -व्यय निरीक्षक मुन्नू लाल, रेखा षर्मा, ठाकुर प्रसाद यादव,  कृष्ण यादव, शीव कुमार यादव, हेम राज सिंह गौर, लखनऊ से प्रदेषीय मंत्री डा. आर.के. त्रिवेदी, जिलाध्यक्ष अनिल शर्मा, जिलामंत्री महेश चन्द्र, आय-व्यय निरीक्षक आलोक पाठक, उपाध्यक्ष अनीता शर्मा, विनीता श्रीवास्तव, मनोरमा इन्दु, गायत्री दीक्षित, कोषाध्यक्ष आर.पी. सिंह, सदस्य राज्य परिषद डा. पी.के. पन्त, राज्य कार्यकारिणी के पदाधिकारी एवं सदस्य मण्डलीय एवं जनपदीय अध्यक्ष, मंत्री तथा सदस्य राज्य परिषद सहित लगभग 1000 शिक्षक प्रतिनिधि सम्मिलित थे।

 

Cherish Times

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button