उत्तर-प्रदेशबड़ी खबरलखनऊ

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने किया झाँसी से दिल्ली तक के यूनिटी रन के दूसरे संस्करण का शुभारंभ

फ़िटनेस आइकॉन मिलिंद सोमन ने किया सहयोग सहयोग

              लखनऊ यूनियन बैंक ऑफ इंडिया द्वारा मुंबई में बैंक के मुख्यालय से फ़िटनेस आइकॉन मिलिंद सोमन के साथ ‘यूनिटी रन’ के दूसरे संस्करण का शुभारंभ किया गया. कार्यक्रम की शुरुआत टी-शर्ट के अनावरण और कार्यक्रम स्थल पर प्रचलित किक-ऑफ के साथ हुई.

भारत की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के उत्सव पर भारत के फ़िटनेस गुरु और दिग्गज स्टाइल आइकॉन मिलिंद सोमन ‘द यूनिटी रन’ के दूसरे संस्करण के लिए अकेले दौड़ेंगे. यूनिटी रन, स्वतन्त्रता के प्रथम युद्ध – सन 1857 के विद्रोह का मुख्य केंद्र, झांसी किले से दिनांक 15 अगस्त,2022 को शुरू होगा तथा एक और ऐतिहासिक स्थल लाल किला, दिल्ली में दिनांक 22 अगस्त,2022 को समाप्त होगा.
मराठा – मुग़ल युद्ध का रणनीतिक केंद्र, ग्वालियर किला और दुनिया का सातवां अजूबा, आगरा में ताज महल, प्रमुख पड़ाव होंगे.
अल्ट्रामैन और नंगे पैर धावक मिलिंद सोमन 450 किलोमीटर की दूरी 8 दिनों में पूरी करेंगे. वे 5 राज्यों उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, और दिल्ली में दौड़ेंगे. श्री सोमन इन राज्यों के ऐतिहासिक स्थलों और शहरों जैसे झांसी किला, चित्रकूट, ग्वालियर किला, वृन्दावन, आगरा और अन्य से गुजरेंगे.
इस अवसर पर बोलते हुए, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की प्रबंध निदेशक एवं सीईओ सुश्री ए मणिमेखलै ने कहा, “हम ‘द यूनिटी रन’ से जुड़कर अत्यंत गर्व महसूस करते हैं और यह संदेश देते हैं कि हमारा ‘पहला धन स्वास्थ्य’ है. हम मानते हैं कि ऐसा यूनिटी रन लोगों को अपनी फ़िटनेस यात्रा को समय पर शुरू करने और साथ में स्वास्थ्य संबंधी किसी भी गंभीर समस्या से मुक़ाबला करने के लिए प्रेरित मदद करता है. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में हम ऐसे प्रयासों का समर्थन करते रहते हैं, क्योंकि हम सामाजिक बंधन और सामुदायिक भावना के निर्माण में खेल की भूमिका को समझते हैं.”
यूनिटी रन के दूसरे संस्करण पर टिप्पणी देते हुए मिलिंद सोमन ने कहा, “भारत की आज़ादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर मैं यूनिटी रन के दूसरे संस्करण में दुगुने उत्साह के साथ जा रहा हूँ. यूनिटी रन एकता, शांति और सद्भाव का संदेश फैलाए इससे बेहतर आज़ादी का अमृत महोत्सव मनाने का तरीका और नहीं हो सकता है. यूनिटी रन 2022, 75 वर्षों के प्रगतिशील भारत और यहाँ के लोगों के गरिमामयी इतिहास, संस्कृति और उपलब्धियों का सम्मान

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button